whatsapp ने दिल्ली हाई कोर्ट में दिया जवाब कहा  इस काम के लिये  मजबूर करेंगे तो छोड़ देंगे भारत|

WhatsApp warned in Delhi High Court to shut down its service in India-मेटा के स्वामित्व वाले लोकप्रिय मैसेजिंग एप्लीकेशन व्हाट्सएप ने दिल्ली हाईकोर्ट में एनक्रिप्शन हटाने से पूरी तरह से इनकार कर दिया है इसके साथ ही यह स्पष्ट किया है कि अगर भारत सरकार ऐसा करने पर मजबूर करेगी तो कंपनी भारत में अपना कारोबार पूरी तरह से बंद कर देगी गौरतलब है कि मेटा की कंपनी ने आईटी रूल्स 2021 को चुनौती दी है खास बात यह है कि भारत में इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप्लिकेशन वॉट्सऐप के 40,00,00,000 से भी ज्यादा यूजर्स हैं और बिज़नेस से लेकर मेसैज तक के लिए तथा सरकारी कामकाज के लिए भी वॉट्सऐप का इस्तेमाल काफी बड़े सकेल पर  किया जा रहा है|

खबर आपके काम की 

व्हाट्सएप पर वेरिफिकेशन OTP नहीं आ रहा तो करें ये उपाय तुरंत मिलेगा समाधान|

यूज़र की निजता से नहीं कर सकते खिलवाड़ 

व्हाट्सएप ने दिल्ली हाई कोर्ट में कहा है कि इंड टू एंड इनक्रिप्शन के जरिए यूज़र की निजता की रक्षा की जाती है इसके जरिए यह निश्चित किया जाता है कि संदेश भेजने वाला और उसे प्राप्त करने वाला ही अंदर के कन्टैंट को जान सकें और समझ सकें कंपनी की ओर से दिल्ली हाई कोर्ट में पेश हुए वकील तेजस करिया ने  डिविजन बेंच से कहा कि “एक प्लैटफॉर्म के तौर पर हम कह रहे है की अगर हमें एन्क्रिप्शन तोड़ने के लिए कहा गया तो व्हाट्सएप भारत से चला जायेगा”

सुप्रीम कोर्ट की सेवाएं अब व्हाट्सएप पर केस की सुनवाई से लेकर लिस्टिंग तक का मिलेगा अपडेट|

आईटी रूल्स को दी गई है हाईकोर्ट में चुनौती

टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट मेंबताया गया है कि कारिया  ने कहा है कि प्राइवेसी फीचर्स के चलते व्हाट्सएप का इस्तेमाल बड़े पैमाने पर आजकल भारत में लोग कर रहे हैं कंपनी आईटी रूल्स 2021 को  दिल्ली हाईकोर्ट में चुनौती दे रही है जिसमें सरकार ने यह प्रावधान बनाया है कि मैसेज ट्रेस करने और संदेश भेजने वालों की पहचान की जा सकती है और कंपनी को उनका डेटा भी देना होगा कंपनियों ने यह तर्क दिया है कि इस कानून से इनक्रिप्शन कमजोर होगा और भारतीय संविधान के तहत यूजर की निजता और सुरक्षा का उल्लंघन होगा|

व्हाट्सएप ने कहा दुनिया में कहीं भी नहीं है ऐसा नियम 

अपने वकील के माध्यम से दिल्ली हाईकोर्ट ने व्हाट्सएप ने कहा कि दुनिया में कहीं भी ऐसा नियम नहीं हैं ब्राज़ील में भी नहीं है इसके लिए हमें एक पूरी छैन  रखनी होगी और हमें नहीं पता कि किन संदेशों को डिक्रिप्ट करने के लिए कह दिया जाये इसलिए हमे लाखों करोड़ों अरबों संदेशों को सालों साल तक स्टोर करके रखना होगाआज भारत में तमाम बिज़नेस वॉट्सऐप का बेहतरीन और बड़े पैमाने पर उपयोग कर रहे हैं और इसमें तमाम सरकारी एवं संवैधानिक संगठन भी शामिल है जो व्हाट्सएप के सर्विस का उपयोग करते हैं|