शादीशुदा पुलिस कांस्टेबल का नर्स से था अफेयर शादी करने के लिये कहा तो दि रूह कंपा देने वाली मौत 

कानपुर-उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले में कानून के रखवालों के द्वारा ही एक ऐसी घटना को अंजाम दिया गया है जिसे सुनकर इंसानियत का सिर  शर्म से झुक गया है बताते चलें कि कानपुर पुलिस के हेड कॉन्स्टेबल मनोज के द्वारा नर्स शालिनी तिवारी की दर्दनाक तरीके से हत्या कर दी गई थी जिसका एक कारण था कि मनोज का शालिनी से अवैध संबंध चल रहा था|

और शालिनी मनोज से शादी करने का दबाव बना रही थी लेकिन यहाँ दिक्कत ये थी कि मनोज पहले से शादीशुदा था और उसके दो बच्चे भी थे इसलिए वह शालिनी से जितना जल्दी हो सके छुटकारा पाना चाहता था इसलिए उसने अपने दोस्त राहुल के साथ मिलकर शालिनी तिवारी का अपहरण कर लिया और गला दबाकर उसके चेहरे को कुचल कर हत्या कर दिया और उसके शव को कुएं में फेंक दिया|

भाजपा के पूर्व विधायक का महिला के संग अधनंगी अवस्था में  वीडियो वायरल 

वर्दी का रौब दिखाकर 230 किलोमीटर दूर ले गया लाश

शालिनी तिवारी की हत्या करने के बाद मनोज वर्दी की हनक दिखाकर 230 किलोमीटर दूर एटा पहुँच गया जहाँ पर उसने शालिनी के शव के चेहरे को छत-विक्षत किया जिससे कि वह पहचान में न आएं फिर उसने उस शव को कुएं में फेंक दिया इसके बाद वह कानपुर लौट आया और अपना सामान्य जीवन जीने लगा पुलिस को गुमराह करने के लिए उसने अपने दोस्त राहुल के जरिए शालिनी का मोबाइल फ़ोन अयोध्या भेजकर उसे चालू करा दिया|

ताकि पुलिस को लगे कि शालिनी अयोध्या में हैं और वे वहाँ उसकी तलाश शुरू कर दें 3 माह बाद 10 दिन बाद पुलिस ने मनोज और राहुल को गिरफ्तार कर हत्याकांड का खुलासा किया शालिनी की कॉल डिटेल के जरिए पुलिस मनोज तक पहुंची मनोज अपने आप को बहुत ज्यादा होशियार समझ रहा था लेकिन वो भूल रहा था कि पुलिस विभाग में उससे भी बड़े बड़े होशियार लोग ड्यूटी करते हैं|

डॉक्टर पति ने अपनी  डॉक्टर पत्नी को दो युवकों के साथ रंगरेलियां मनाते हुए होटल में रंगे हाथ पकड़ा

पहले से ही शादीशुदा था कांस्टेबल

डीसीपी रविंद्र कुमार के द्वारा जानकारी मिली कि मनोज कुमार पहले बर्रा थाने में तैनात था वह मूलरूप से एटा के मोहल्ला गाँधी नगर जैथरा का निवासी है दो 3 साल पहले बर्रा थाने में तैनाती के दौरान उसकी जान पहचान नर्स शालिनी तिवारी से हुई धीरे-धीरे दोनों के बीच में नजदीकियां बढ़ने लगीं और नजदीकियां प्यार में बदल दिया फिर उसके बाद कई बार शारीरिक संबंध स्थापित हुए शालिनी ने मनोज पर शादी के लिए दबाव बनाया जिसके कारण मनोज ने उसकी हत्या की योजना बनाई क्योंकि मनोज पहले से ही शादीशुदा था 8 फरवरी को मनोज ने शालिनी को अपने घर के पास बुलाया इस दौरान राहुल भी था दोनों ने शालिनी को जबरदस्ती कार में डाला और हाइवे की ओर ले गये  वहाँ एक सुनसान जगह पर मनोज ने कार में ही गमछे से शालिनी का गला घोंट दिया जिससे की शालिनी की जान निकल गयी|