Mp news in hindi-सीएम हेल्पलाइन की शिकायतों के निराकरण में भी भ्रष्ट अधिकारियों के फर्जीवाड़े का हुआ खुलासा आम जनता का चूस रहे हैं खून

पन्ना-मध्यप्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के द्वारा आम जनता की शिकायतों के निराकरण के लिए सीएम हेल्पलाइन सेवा शुरू(CM helpline service started) की गई थी जिसमे की आम जनता के द्वारा की गई शिकायतों के निराकरण का प्रावधान था एक स्तर पर शिकायत का निराकरण नहीं होने के कारण उस शिकायत को उच्चस्तरीय अधिकारी के पास भेज दिया जाता था जिससे की उसकी मॉनीटरिंग होने के कारण संबंधित अधिकारी आम जनता की उस शिकायत को निराकरण करने के लिए बाध्य हो जाते थे लेकिन आज सीएम हेल्पलाइन की जो सेवा हैं वो भ्रष्ट अधिकारियों के हाथों की कठपुतली बनकर रह गई है आइए आपको पूरी घटना के बारे में बता दे|

ललितपुर सिंगरौली रेल लाइन  में हुए मुआवज़े घोटाले उच्च स्तरीय जांच शुरू  के पूर्व मंत्री ने सहित नपेंगे की VIP और अफसर 

भ्रष्ट अधिकारी खेल रहे हैं भ्रष्टाचार का खेल

इस बात में कोई दो राय नहीं कि सरकारी विभाग में अधिकांश अधिकारियों की प्रवृत्ति जो होती है वह भ्रष्ट ही होती है लेकिन विभाग में एक वरीष्ठ स्तर पर कुछ ईमानदार अधिकारी एवं ईमानदार जनप्रतिनिधि हैं  जिनके द्वारा निरीक्षण में यह पाया गया है कि किसी जरूरतमंद के द्वारा की गई शिकायत का निराकरण किये  बिना ही भ्रष्ट अधिकारियों  कर्मचारियों तथा भ्रष्ट बाबुओं के द्वारा शासन के उच्च अधिकारियों को शिकायत के निराकरण की प्रतिवेदन को पेश कर दिया जाता है तथा फर्जी तरीके से शिकायत को बंद करवा दिया जाता है जिससे कि आम जनता की शिकायत का निराकरण ही नहीं हो पाता|

8gb रैम 512gb रैम से लैस हाई क्वालिटी लैपटॉप की कीमत 14 हजार हुई कम जानिये कितना है इसमें दम

बेईमान अधिकारी ही करवातें हैं झूठी शिकायतें

महीनों भर जिले के बाहर और फिर कभी कभार जिले में दर्शन देने वाले अधिकारियों के द्वारा झूठी शिकायतें करवाई जाती है तथा उसे बंद करवा दिया जाता है इसलिए है कि सीएम हेल्पलाइन के मामले में जिले की समीक्षा हो तब ग्रेडिंग अच्छी आय बता दें मप्र के तत्कालीन  मुख्यमंत्री के द्वारा यह नियम बनाया गया था कि किसी भी शिकायत का निराकरण तब तक नहीं माना जाएगा जब तक शिकायतकर्ता सहमति न दें ऐसी स्थिति में मजबूत भ्रष्टाचारी  अधिकारियों एवं कर्मचारियों के द्वाराजो फर्जी शिकायतें करवाई जाती है उनसे झूठी सहमति दिलवाकर उसे बंद करवा दिया जाता है|

मजबूत भ्रष्ट अधिकारियों का गंदा खेल

भ्रष्ट अधिकारियों के इस रवैये के कारण शिकायतकर्ता हैरान और परेशान हो जाता है कभी-कभी तो ऐसी भी स्थिति आती है कि कलेक्टर के स्तर से भी शिकायतों को बिना निराकरण के बंद कर दिया जाता है इस मामले में वरीष्ठ अधिकारी जिनके ऊपर यह जिम्मेदारी होती है वो इस मामले की मॉनीटरिंग करें वह इस मामले की मॉनीटरिंग तो करते है वो गलतियाँ भी पाते हैं लेकिन इस पर कोई कठोर कार्रवाई नहीं करते जिससे कि उच्च स्तरीय जिम्मेदार अधिकारियों एवं सरकार की किरकिरी होती है ये वही अधिकारी हैं जो पैसा सरकार से लेते हैं लेकिन काम भ्रष्टाचारियों का करते हैं|

आमूलचूल परिवर्तन की जरूरत

इसलिये सीएम हेल्पलाईन को वाकई में आम जनता के मदद के लायक बनाने के लिए इसमें आमूलचूल परिवर्तन करने की जरूरत है इसमें एक ऐसे सिस्टम को इंस्टॉल करने की जरूरत है जिससे कि ना तो फर्जी शिकायतें करवाई जा सकेन  और करवाई भी जा सके तो उन्हें गलत तरीके से बन्द ना करवाया जा सके शिकायतों को फोर्स क्लोज़ ना किया जा सके वरीष्ठ स्तर पर इसकी मॉनीटरिंग की उचित व्यवस्था भी होनी चाहिए अगर ऐसा नहीं हुआ तो सीएम हेल्पलाइन हेल्प लेस हो जाएगी जो वर्तमान में हो चुकी है|