सीबीआई रिश्वत कांड में गिरफ्तार हुए पुलिस इंस्पेक्टर को सरकार ने किया बर्खास्त फर्जीवाड़ा में शामिल 111 अधिकारी रडार पर|

भोपाल-मध्यप्रदेश में हुए प्रसिद्ध एवं बहुचर्चित नर्सिंग कॉलेजों के घोटाले में की जा रही है जांच के दौरान कॉलेजों को क्लीन चिट देने के एवज में रिश्वत लेते पकड़े गए सीबीआइ के निरीक्षक राहुल राज़ की बर्खास्तगी के उपरांत अब सीबीआई में प्रतिनियुक्ति पर  तैनात मध्यप्रदेश पुलिस के अनुसंधान विभाग के निरीक्षक सुशील कुमार मजोका को भी मध्यप्रदेश शासन ने नौकरी से बर्खास्त कर दिया है गौरतलब है कि इस मामले में बड़ी कार्रवाई करते हुए मध्यप्रदेश शासन ने नर्सिंग कॉलेजों के फर्जीवाड़ा में शामिल रहे111 अधिकारी कर्मचारियों को नोटिस भी भेजा है|

सैकड़ों अधिकारी हो सकते हैं बर्खास्त 

वरिष् स्तर से प्राप्त शासन के सूत्रों के मुताबिक 111 अधिकारियों पर भी बर्खास्तगी की तलवार लटक रही है और कभी भी बर्खास्तगी का आदेश जारी हो सकता है गौरतलब है कि मध्य प्रदेश में नर्सिंग कॉलेजों को मनमाने ढंग से मान्यता दी गई करोड़ों रुपये का घोटाला किया गया जब इसकी जांच माननीय हाईकोर्ट के आदेश पर सीबीआइ को सौंपी गयी तो जो अधिकारी जांच करने के लिए आए थे उन अधिकारियों ने भी शुरू कर दिया और जब ये भ्रष्टाचार उजागर हुआ तो मीडिया में सीबीआइ की किरकिरी होने लगी फिर यह कार्रवाई की गईऔर सूचना पर दिल्ली सीबीआइ के अधिकारियों के द्वारा भोपाल में पदस्थ अधिकारियों को दबोचा गया|

नर्सिंग घोटाले की जांच करने वाली पूरी CBI टीम कटघरे में कागजों में संचालित हो रहे हैं कॉलेज लेकिन दे दी है क्लीन चिट

13 अधिकारियों को किया गया था गिरफ्तार

रिश्वतखोरी की सूचना पर सीबीआई दिल्ली की टीम के द्वारा जाल बिछाते हुए 20 मई को नर्सिंग कॉलेजों की जांच कर रहे हैं सीबीआई निरीक्षक राहुल राज सीबीआई में प्रतिनियुक्ति पर तैनात मध्यप्रदेश पुलिस के इंस्पेक्टर सुशील कुमार मजोका सहित 13 लोगों को गिरफ्तार किया गया था इसमें से कॉलेज संचालक भी शामिल थे सीबीआइ के द्वारा राहुल राज को बर्खास्त कर दिया गया था और मध्य प्रदेश सरकार के द्वारा अबमजोका को भी खास कर दिया गया है|

दोबारा होगी सीबीआई जांच

उधर जब हाइकोर्ट मध्यप्रदेश में इस मामले की जानकारी पहुंची तब सीबीआई द्वारा अपात्र बताए गए कॉलेजों को बंद कराने का काम भी मंगलवार से शुरू हो गया है बताते चलें कि हाइकोर्ट ने सीबीआइ जांच में उपयुक्त पाए गए नर्सिंग कॉलेजों की पुनः जांच के भी आदेश दे दिए हैं इसके अलावा 169 नर्सिंग कॉलेजों की न्यायिक दंडाधिकारी की उपस्थिति में पुन सीबीआइ जांच कराने के आदेश दिए गए हैं मंगलवार को मामले की सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति संजय ,एके पालीवाल की युगलपीठ के द्वारा मामले की सुनवाई की गई और सीबीआई को निर्देशित किया गया की जांच की विडियो व फोटोग्राफी भी कराई जाए इस दौरान कॉलेज के संचालक और प्राचार्य भी अनिवार्य रूप से उपस्थित रहेंगे याचिका की अगली सुनवाई 15 जुलाई को निर्धारित की गयी है|

भ्रष्टाचार की जांच करने वाले अफसर ही निकले भ्रष्ट CBI भोपाल के चार अधिकारी रिश्वत के मामले में गिरफ्तार

रिश्वत कांड में गिरफ्तार नौ आरोपियों को भेज जेल 

रिश्वत कांड में गिरफ्तारमें से नौ आरोपियों की पुलिस हिरासत पूरी होने के बाद मंगलवार को भोपाल में सीबीआइ के विशेष न्यायाधीश राम प्रसाद मिश्र के न्यायालय के द्वारा आरोपियों को जेल भेज दिया गया बताते चलें कि सीबीआइ की बिज़नेस टीम ने मध्यप्रदेश में भोपाल इंदौर और रतलाम के अलावा राजस्थान के जयपुर में 31 स्थानों पर छापेमारी कर सीबीआइ की चार अधिकारियों समेत लगभग 23 लोगों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया था|