DRDO के यंग अचीवर साइंटिस्ट अवॉर्ड से सम्मानित इंजीनियर निशांत अग्रवाल को उम्रकैद ISI के लिये कर रहा था जासूसी|

नई दिल्ली-दुनिया की सबसे खतरनाक मिसाइल जो कि भारत में तैयार हुई है चुकी हैं पूर्व इंजीनियर निशांत अग्रवाल को उम्रकैद की सजा सुनाई गई है बताते चलें की यह सजा नागपुर की एक अदालत के द्वारा सोमवार को सुनाई गई ब्रह्मोस एयरोस्पेस के पूर्व इंजीनियर निशांत अग्रवाल पर पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के लिए जासूसी करने का आरोप है निशांतअग्रवाल को 2018 में पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई को ब्रह्मोस मिसाइल के बारे में जानकारी करने और जासूसी करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था|

 नई दिल्ली में चलती हुई ट्रेन में लगी भीषण आग ताज एक्सप्रेस के दो कोच जले 

जॉइंट ऑपरेशन में किया गया था गिरफ्तार

निशांत अग्रवाल ब्रह्मोस एयरोस्पेस में बतौर सीनियर सिस्टम इंजीनियर के रूप में काम कर रहे थे इसके अतिरिक्त वह मिसाइल परियोजनाओं में शामिल थे अग्रवाल को आईएसआई को परियोजनाओं के बारे में गोपनीय जानकारी देने के आरोप में उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र एटीएस तथा मलिक फूलचंद ने 2018 में नागपुर के पास से गिरफ्तार किया था गौरतलब है कि ब्रह्मोस एयरोस्पेस डीआरडीओ और रूस की मिलिट्री इंडस्ट्रियल कंसोर्टियम किस संयुक्त उपक्रम से तैयार किया गया है बताते चलें कि यह भारत में सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल के विकास में और निर्माण क्षमता में काम करता है इन सुपरसोनिक मिसाइलों को इस तरह से तैयार किया जाता है कि यह जल, थल ,नभ और पानी के नीचेबट भी ऑपरेट कर सकते हैं|

कल से शुरू होगी इन 5 राशियों के ऊपर विशेष कृपा 7 दिन तक रहेगा जलवा धन संपत्ति में होगी जमकर वृद्धि

इस्लामाबाद से बनाई गई थी फेसबुक आईडी

2018 में जब निशांत अग्रवाल की गिरफ्तारी एक ज्वाइंट ऑपरेशन के दौरान हुई थी तब यहाँ काफी आश्चर्यजनक था क्योंकि वह ब्रह्मोस एरोस्पेस के प्रोजेक्ट में कई महत्वपूर्ण पदों पर काम कर चुका था पता तो चलें  की निशांत अग्रवाल दो फेसबुक अकाउंट नेहा शर्मा और पूजा रंजन के जरिए संदिग्ध जानकारी को पाकिस्तान भेज रहा था यह दोनों अकाउंट इस्लामाबाद से संचालित हो रहे थे बताते चलें की ऐसा माना गया कि उन्हें पाकिस्तान की खुफिया एजेंट्स के द्वारा ऑपरेट किया जा रहा था|

पूरी- सब्जी बेचने वाले की कमाई जानकर हैरान हो जाएंगे आप छापा मारने पहुंची  GST टीम को मिला कुबेर का खजाना

कौन हैं  निशांत अग्रवाल

निशांत अग्रवाल एक बहुत ही टैलेंटेड इंजीनियर है बताते चलें कि उसे डीआरडीओ का यंग साइंटिस्ट अवॉर्ड भी मिल चुका था वह एनआईटी कुरुक्षेत्र का छात्र भी रहा है चार्जशीट के मुताबिक उसके लैपटॉप से तमाम गोपनीय फाइलें भी मिली थी इसके अतिरिक्त एक सॉफ्टवेयर भी पाया गया था जिससे लैपटॉप में मौजूद संवेदनशील तकनीकी जानकारीयों को विदेशों और असामाजिक तत्वों को भेजा जाता था|