बंगाल में बीजेपी का हुआ बुरा हाल 2019 के आंकड़ों को भी नहीं दोहरा सका NDA ममता ने किया खेला

कोलकाता-लोकसभा चुनाव 2024 के परिणाम अब धीरे धीरे साफ होते हुए नजर आ रहे एक और 400 पार का नारा देने वाले बीजेपी की जो स्थिति है वह उतनी अच्छी नहीं है जितना कि उसके द्वारा दावा किया जाता था शुरुआती रुझानों में एनडीए को बहुमत मिल रहा है तो वहीं इंडिया गठबंधन भी अब अच्छी स्थिति मेंदिख रहा है ऐसे में जो पश्चिम बंगालवे बड़ा परिवर्तन करने का दावा बीजेपी के द्वारा किया जा रहा था वो नहीं दिख रहा है जहाँ एक तरफ भाजपा को उम्मीद थी कि ममता बनर्जी के गढ़ में वहाँ आगे बढ़ेगी लेकिन वह सही नहीं हो पाया है एग्जिट पोल में भाजपा को वहाँ पर मौजूद स्थिति में दिखाया गया था लेकिन सभी दावों की पोल खुल चुकी है और ममता के गढ़ में भाजपा की स्थिति सुधारने की जगह और भी ज्यादा खराब हो गयी|

बहुमत को छूकर टक से वापस आये नरेंद्र मोदी एक मंत्री सवा लाख से पीछे दर्जनभर मंत्री पिछड़े

नहीं प्राप्त कर सके 2019 के भी परिणाम

पश्चिम बंगाल में भारतीय जनता पार्टी 2019 के परिणामों को भी नहीं पा सकी है सूत्रों के मुताबिक 2019 में भाजपा को 18 सीटें मिली थीं तो वहीं भाजपा 2024 में 11 सीटों पर ही  सिमट कर रह गई है तृणमूल कांग्रेस 2019 में 22 सीटों पर अपना परचम लहरा चुकी थी तो अब उसने 30 सीटों पर विजयश्री हासिल की है इसके अतिरिक्त मात्र एक सीट कांग्रेस के खाते में जाती हुई दिखाई दे रही है|

आंध्र प्रदेश में NDA को पूर्ण बहुमत YSRCP को लगा तगड़ा झटका लोकसभा और विधानसभा दोनों में सफाचट

एग्ज़िट पोल के आंकड़े पूरी तरह से सफाचट

इस बार जो एग्ज़िट पोल के आंकड़े जारी किए गए थे उन्हें सरकारी आंकड़े बताने में आलोचकों ने कोई कसर नहीं छोड़ी थी जो कि लगभग अब सही दिखाई दे रहा है यहाँ पर एग्जिट पोल में जो नतीजे जारी किए गए थे वो पूरी तरह से गलत साबित हो रहे हैं|

यह था एग्जिट पोल का आंकड़ा

एग्जिट पोल के अनुसार पश्चिम बंगाल में 42 सीटों पर एनडीए को 46% वोट शेयर मिलने का दावा किया गया था वहीं टीएमसी को 40 फीसदी वोट शेयर मिलने की उम्मीद जताई गई थी सीटों के लिहाज से बीजेपी को बढ़ोत्तरी मिलने की उम्मीद थी में भाजपा को 26 में  से 31 सीटें मिलती हुई दिखाई गई थी तो टीएमसी को 11 से 14 सीटें मिलने का अनुमान लगाया गया था इंडिया गठबंधन को ज़ीरो से दो सीटें मिलने का अनुमान लगाया गया था लेकिन राज्य में इंडिया गठबंधन में सहमति नहीं बन सकी और टीएमसी तथा कांग्रेस ने अलग-अलग चुनाव लड़ा था जिसका नुकसान कांग्रेस को दिखाई दे रहा है|