कर्नाटक में कांग्रेस सरकार के मंत्री पर 89 करोड़ के घोटाले का आरोप मंत्री जी ने दिया इस्तीफा 

नई दिल्ली -कर्नाटक में सत्ताधारी कांग्रेस के मंत्री बी.नागेंद्र पर ₹89,00,00,000 के घोटाले करने का आरोप लगाया गया आरोप लगने के बाद गुरुवार को राज्य के अनुसूचित जनजाति कल्याण मंत्री बी नागेंद्र ने अपना इस्तीफा सौंप दिया उनका इस्तीफा स्वीकार भी कर लिया गया है बी नागेंद्र के ऊपर वाल्मीकि कल्याण बोर्ड के अंदर ₹89.63,00,00,000 के घोटाले करने का आरोप है|

मोदी सरकार 3.0 में ईन नेताओं को बनाया जायेगा केन्द्रीय मंत्री सामने आ गई लिस्ट नीतीश को झटका 

घोटाले के आरोपों से घिरे मंत्री ने क्या कहा

लगभग एक अरब के घोटाले के आरोपों से घिरे मंत्री बी नागेंद्र ने मुख्यमंत्री सिद्धारमैया को इस्तीफा देने से पहले यह कहा कि मेरे ऊपर इस्तीफा देने का किसी भी प्रकार का कोई दबाव नहीं डाला गया लोग इस स्कैम को लेकर गुमराह ना हो इसलिए मैंने अपने आप ही इस्तीफ़े की पेशकश की ताकि पार्टी और मुख्यमंत्री दोनों की किसी भी प्रकार का कोई नुकसान ना पहुँचे बीते 1 साल में कर्नाटक में कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में बेल्लारी गांव से चार बार विधायक बी.नागेंद्र पहले मंत्री हैं जिन्होंने इस्तीफा दिया है और इनके ऊपर घोटाले का आरोप लगा है|

मोदी सरकार के 19 धुरंधर मंत्री हारे  चुनाव पूरा जोर लगाकर भी नहीं बचा पाये अपनी सीट देखें लिस्ट 

क्या है पूरा मामला

कर्नाटक महर्षि वाल्मीकि अनुसूचित जनजाति विकास निगम के अकाउंट सुप्रीडेंट चंद्रशेखर पी. ने 26 मई को आत्महत्या की थी जिसके बाद इस मामले ने तूल पकड़ लिया था गौरतलब है कि आत्महत्या से पहले उन्होंने एक नोट लिखा था कि ₹187,00,00,000 का अनाधिकृत ट्रांसफर किया गया और गैरकानूनी तरीके से ₹88.6,00,00,000 को हैदराबाद की कई स्थानीय आईटी कंपनियों और कॉपरेटिव बैंक खातों में भेजा गया के बाद से ही बि.नागेंद्र पर भ्रष्टाचार के आरोप लगने शुरू हो गए इसी के कारण उन्होंने अपना इस्तीफा मुख्यमंत्री को सौंप दिया जिसे आज राज्यपाल ने स्वीकार भी कर लिया है बताते चलें कि कर्नाटक में भारतीय जनता पार्टी ने इस मुददे को प्रमुखता से उठाया था और अभी भी उठा रही है|