FEATUREDभारतमध्यप्रदेश

Sidhi : भ्रष्टाचार पर जीरो टारलेष पर सीएम का आदेश बेअसर

 

नदहा पंचायत के रोजगार सहायक पर प्रशासन मेहरबान

करप्शन में डूबे रोजगार सहायक पर नहीं आई जांच की आंच

पोल खोल सीधी

मझौली जनपद के ग्राम पंचायत नदहा के रोजगार सहायक पर भ्रष्टाचार का आरोप है लेकिन मझौली जनपद के नदहा ग्राम पंचायत में करप्शन में डूबे रोजगार सहायक जगन्नाथ विश्वकर्मा पर कांग्रेसी नेता के इशारे पर प्रशासन मेहरबान है। जहां कई लाखों का गोलमाल करने वाले रोजगार सहायक अभी भी कांग्रेसी नेता का नाम लेकर सचिव तथा पंचों को धमकाने पर उतारू हो गए हैं। हालांकि पूरे मामले को लेकर कलेक्टर के पास शिकायत पहुंची है जहां कलेक्टर ने कार्यवाही का आश्वासन भी दिया था लेकिन अभी तक रोजगार सहायक के खिलाफ किसी भी तरह की कार्रवाई नहीं की गई है। वही आरोप है

कि रोजगार सहायक जगन्नाथ विश्वकर्मा पर कार्रवाई नहीं होने से सचिव तथा पंचायत के पंचों को षड्यंत्र तरीके से फसाने का साजिश रचने लगा है। ग्राम पंचायत के कई पंच ने बताया कि रोजगार सहायक एक तथाकथित कांग्रेसी नेता का नाम लेकर ये बोल रहा है कि आदिवासी महिला सरपंच है महिला सरपंच से फसवा देंगे तो कभी कोई मुंह हमारे खिलाफ नहीं खोल पाएगा। उल्लेखनीय है कि नदहा ग्राम पंचायत में तथाकथित कांग्रेसी नेता का नाम लेकर कई दलाल हावी है। और मिल बांट कर शासकीय राशि का बंदरबांट करते हैं।

ये है पूरा मामला

प्राप्त जानकारी के अनुसार मझौली जनपद पंचायत के नदहा ग्राम पंचायत में पदस्थ रोजगार सहायक जगन्नाथ विश्वकर्मा के द्वारा उर्मिला नामदेव विनय विश्वकर्मा ( जोकि रोजगार सहायक का ही पुत्र है ) छोटू साहू भैया लाल तिवारी हितग्राहियों का 6 लाख रुपये के लगभग जो ग्राम पंचायत में रहते तक नहीं है उनका षड्यंत्र रच कर फर्जी तरीके से प्रधानमंत्री आवास का फोटो लगाकर प्रधानमंत्री आवास का पूरा पैसा निकाल लिया गया है।आरोप है

कि चार ऐसे प्रधानमंत्री आवास के हितग्राहियों के नाम से पैसे का बंदरबांट किया गया है जो ग्राम पंचायत में रहते तक नहीं है और उनका पूरा पैसा निकल गया है बताया गया कि इस पूरे बंदरबांट में जगन्नाथ विश्वकर्मा रोजगार सहायक का कमीशन है। वही पहले से बन रहे प्रधानमंत्री आवास में आज तक मजदूरी भुगतान तक नहीं हुआ है। जहां आज भी न था ग्राम पंचायत की जनता में हाहाकार मचा हुआ है।

कलेक्टर का आदेश भी बेअसर

सीधी कलेक्टर मुजीबुर्रहमान खान बीते 7 अक्टूबर को जिला सीईओ को पत्र लिखकर जांच के दरमियान कार्रवाई करने का आदेश दिए थे लेकिन कलेक्टर का आदेश भी कांग्रेसी नेताओं के सामने बेअसर दिखा जहां पूरा महीना बीत जाने के बाद भी ना तो रोजगार सहायक की जांच हुई और ना ही कोई इसी तरह की कोई कार्रवाई हुई है।विश्वासनीय सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार रोजगार सहायक को मझौली जनपद कार्यालय में बुलाकर एक नोटिस देकर उसका जवाब ले लिया गया है और पूरे मामले को लीपापोती किया जा रहा है। जहां भ्रष्टाचार के ऊपर प्रहार को लेकर सीएम का आदेश भी बेअसर है।

और रचने लगा साजिश

प्राप्त जानकारी के अनुसार तथाकथित कांग्रेसी नेता के इसारे पर अधिकारियों के द्वारा रोजगार सहायक जगन्नाथ विश्वकर्मा पर कार्रवाई करने की बजाए मेहरबानी बनाए हुए हैं। और सीधी कलेक्टर को गलत जांच रिपोर्ट तथा जानकारी देकर गुमराह करते हैं । इसके पूर्व में भी जांच के नाम पर खानापूर्ति किया गया है। वही रोजगार सहायक के द्वारा ग्राम पंचायत की महिला सचिव तथा भ्रष्टाचार को उजागर करने वाले पंचायत के पंचों के खिलाफ षड्यंत्र रच कर फसाने की कोशिश में जुट गया है। आरोपी रोजगार सहायक अन्य दलालों के साथ महिला संबंधी अपराधों में फंसाने की धमकी दे रहा है।

विश्वकर्मा कंप्यूटर पर होती है वसूली

रोजगार सहायक जगन्नाथ विश्वकर्मा के द्वारा नौकरी तो शासन की करता है लेकिन सरकारी आईडी पासवर्ड का दुरुपयोग दुकानदार करते हैं आरोप है कि रोजगार सहायक जगन्नाथ विश्वकर्मा के पास अमहिया तथा नदहा पंचायत का प्रभार है। जहां रोजगार सहायक के द्वारा अमहिया तिराहे में स्थित विश्वकर्मा कंप्यूटर पर अपनी दुकानदारी चला रहा है जहां ग्राम पंचायत के हितग्राहियों से भरपूर वसूली की जाती है। हालांकि प्रशासन को चाहिए कि दुकान में छापा मारते हुए सरकारी पासवर्ड आईडी से चल रहे कंप्यूटर को जप्त कर रोजगार सहायक के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए।

[URIS id=12776]

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button

Adblock Detected

Allow me