FEATUREDभारतमध्यप्रदेश

Sidhi: पुत्रों ने बीमार बुजुर्ग पिता पर लगाए मिथ्या आरोप

हिस्सा पाने के बाद भी नहीं कर रहे देखभाल

पोल खोल पोस्ट

सीधी। 94 वर्ष के बीमार बुजुर्ग पिता पर पुत्रों ने जायदाद की लालच में मिथ्या आरोप लगाकर उन्हें मानसिक रूप से प्रताडि़त करनें का कार्य किया है। यह जानकारी सामने आने के बाद बुजुर्ग पिता ने स्वयं आगे आकर पुत्रों द्वारा लगाए जा रहे मिथ्या आरोपों का खंडन किया है। साथ ही स्पष्ट किया है कि सभी पुत्रों को उनके द्वारा मौजूद जायदाद एवं भूमि मेें पूर्व में ही हिस्सा दे दिया गया था। अपने गुजर-बसर के लिए उनके द्वारा कुछ भूमि अपने नाम से रखी गई थी। जिससे उनकी देखभाल करने वाले को बाद में दिया जा सके। हिस्सा पाने के बाद भी उनके नाम से जो भूमि थी उस पर भी पुत्रों की नियत ठीक नहीं है। इसी वजह से वह अनर्गल आरोप लगाकर परिवार की छवि धूमिल करनें का प्रयास कर रहे हैं। जिले के सिहावल तहसील अंतर्गत ग्राम सबैचा निवासी एवं वर्तमान में प्रियदर्शिनी नगर सीधी में निवासरत उदयराज मिश्रा पिता स्व. पंडित भाईलाल मिश्रा 94 वर्ष ने कहा है कि उनके 5 पुत्र हैं। वह विगत 12 वर्षों से अपने बडे पुत्र हरिहर गोपाल के पुत्र नवीन कुमार मिश्रा के साथ रहते हैं।

मेरी पत्नी की मृत्यु के पश्चात पुत्र श्रीकमल मिश्रा, सूर्यकमल मिश्रा, ओमप्रकाश मिश्रा एवं चंद्रकमल मिश्रा द्वारा लगातार उन्हें मानसिक व शारीरिक रूप से प्रताडि़त किया गया। जबकि वे अपनी पैतृक भूमि 70 एकड़ तथा स्व अर्जित भूमि 49 एकड़ अपने पांचों पुत्र में बराबर भाग में बंटवारा करनें के साथ कुछ भूमि अपने जीवन निर्वाह के लिए रख लिया था। बाद में चारों पुत्रों ने देखभाल, सेवा परवरिश करने से मना कर दिया। लिहाजा वे अपने नाती नवीन मिश्रा के साथ रहने लगे। वही उनकी देखभाल एवं बीमारी हालत में उपचार करा रहे हैं। बुजुर्ग उदयराज मिश्रा ने आगे कहा है कि वे गत 6 वर्षों से गंभीर बीमारी रीढ़ की हड्डी टूटने से ग्रसित हैं। इस वजह से खाने-पीने, चलने-फिरने एवं नित्य क्रियाकर्म में असमथ्र्य हैं। चारों पुत्रों द्वारा उपचार चिकित्सा करानें से मना कर दिया गया।

जिससे वह अपने नाती कि पास रहते हैं और वह बनारस एवं रीवा में उपचार करा रहे हैं। पुत्रों द्वारा उनके पास मौजूद 13 एकड़ भूमि के संबंध में मिथ्या जानकारी प्रसारित की गई। जिससे वह पूरी तरह से आहत हैं। पुत्रों द्वारा लगाए गए सभी आरोप पूरी तरह से झूंठे हैं। यह आरोप समाज में बेइज्जत करने की नियत से लगाया गया है।

[URIS id=12776]

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button

Adblock Detected

Allow me