FEATUREDभारतमध्यप्रदेश

Sidhi: आउटसोर्स के माध्यम से भर्ती कर शिवराज सरकार कर रही प्रदेश के युवाओं के भविष्य पर कुठाराघात – प्रदीप सिंह दीपू

पोल खोल पोस्ट

सीधी| जिला कांग्रेस कमेटी के पूर्व प्रवक्ता प्रदीप सिंह दीपू ने प्रदेश की भाजपा सरकार द्वारा सरकारी विभागों में रिक्त पदों पर आउट सोर्स से भर्ती प्रक्रिया को बड़ा षड्यंत्र बताते हुए प्रदेश के युवाओं के भविष्य के साथ कुठाराघात करार दिया है। कांग्रेस नेता प्रदीप सिंह ने जारी एक बयान में कहा है प्रदेश की भाजपा सरकार युवाओं के भविष्य से लगातार खिलवाड़ कर रही है। एक तरफ भर्ती घोटालों के कारण प्रदेश में योग्य शिक्षित नौजवान रोजगार प्राप्त नहीं कर पा रहे हैं तो दूसरी तरफ नौकरियों में चयनित हो चुके अभ्यर्थियों को अब तक नियुक्ति नहीं दी गई है। सरकारी विभागों में हजारों पद खाली होने के बावजूद युवाओं के भविष्य से खिलवाड़ करने के लिए भाजपा सरकार आउटसोर्स के माध्यम से पद भरने का षड्यंत्र कर रही है। विगत कई वर्षों से खाली होने वाले पदों पर भर्ती नहीं की है, जिस कारण लाखों पद खाली पड़े हैं। विधानसभा चुनाव नजदीक आते देख भर्ती की प्रक्रिया प्रारंभ तो की गई है, तो वह मनमाने तरीके से प्रदेश के चतुर्थ श्रेणी के सभी पद आउटसोर्स से भरने का प्रस्ताव तैयार किया गया है। अब प्रतियोगिता परीक्षा न लेकर निजी कम्पनी या किसी ठेकेदार के माध्यम से नौकरियों में भर्ती करने की योजना है। प्रदेश में करोड़ों की तादाद में शिक्षित बेरोजगार युवक है, जो सरकारी नौकरी पाने की आश लगाए बैठे हैं, लेकिन सरकार लगातार उनके साथ धोखा कर रही है।

कांग्रेस नेता प्रदीप सिंह ने कहा कि बिना कोई भर्ती प्रक्रिया अपनाए बैकडोर से की जाने वाली इस भर्ती से प्रदेश के एससी., एसटी., ओबीसी तथा सामान्य किसी भी वर्ग के युवा योग्यता अनुसार नौकरी नहीं पा सकेंगे। यह प्रदेश के बेरोजगार युवाओं के भविष्य के साथ सरासर अन्याय, धोखा एवं कुठाराघात है।
कांग्रेस नेता ने प्रदेश की भाजपा सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि यह सरकार आउट सोर्स के माध्यम से अपने चहेतों को सरकारी पदों पर भर्ती करने के लिए तमाम भर्ती प्रक्रिया के नियमों का सरासर उल्लंघन कर रही है। उन्होंने कहा कि शिवराज सरकार की इस भर्ती विरोधी नीति से प्रदेश का बेरोजगार युवा वर्ग निराश और आक्रोशित है।

कांग्रेस नेता ने कहा कि अधिकारी व कर्मचारियों के प्रमोशन की प्रक्रिया विगत 5 वर्ष से रुकी हुई है, हजारों अधिकारी-कर्मचारी प्रमोशन की आश में अपने मूल पदों से ही रिटायर हो गए हैं। प्रदेश के कर्मचारी, अधिकारियों द्वारा पुरानी पेंशन लागू करने की मांग की जा रही है जो सरकार द्वारा लागू नहीं की जा रही, इससे कर्मचारी और अधिकारियों में भी भारी आक्रोश व्याप्त है।
श्री दीपू ने कहा कि मप्र का व्यापम घोटाला दुनिया का सबसे बड़ा घोटाला है, इस घोटाले में 57 से अधिक लोगों की जाने गई है और भाजपा संगठन और सत्ता के कई रसूखदारों तक इस घोटाले में आरोपों की आँच पहुंची। भर्ती परीक्षाओं में कभी पेपर लीक हुआ, कभी गलत मॉडल आंसर की समस्या आयी तो कभी साक्षात्कार में पक्षपात हुआ, कोई भी परीक्षा निर्विघ्न संपन्न नहीं हो सकी और लाखों प्रतिभागी युवाओं को दलालों के माध्यम से लूटा गया, जिसमें अरबों का भ्रष्टाचार हुआ और लाखों युवाओं का भविष्य चौपट हुआ।

[URIS id=12776]

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button

Adblock Detected

Allow me