FEATUREDभारतमध्यप्रदेश

Sidhi: बकिया धार नदी में पुलिया के निमार्ण से आदिवासी बाहुल्य ग्राम पंचायत जूरी ने पकड़ी विकास की राह

पोल खोल पोस्ट

सीधी| किसी भी क्षेत्र के विकास में अधोसंरचना के विकास का महत्वपूणर् योगदान होता है। आवागमन की सुविधाओं में विस्तार से क्षेत्र के विकास के द्वार खुल जाते हैं। प्रदेश सरकार द्वारा मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चैहान के नेतृत्व में प्रदेश की प्रत्येक बसाहट को बारहमासी सड़कों से जोड़ने का अभियान चलाया गया है। दूरस्थ एवं दुगर्म इलाकों तथा आदिवासी बाहुल्य क्षेत्रों में प्राथमिकता के आधार पर अधोसंरचना विकास के कायर् किए जा रहे हैं।

सीधी जिले के वनांचल एवं दूरस्थ अंचल ग्राम पंचायत कुसमी से 7 किमी दूरी पर आदिवासी बाहुल्य ग्राम पंचायत जूरी का दक्षिण टोला अभी तक मुख्य मागर् से आवागमन से वंचित रहा है। यहाँ हर वषर् बारिश में जानमाल की हानि होती रही है। पिछले 5 वषोंर् में आदिवासियों सहित कई मवेशियों की बाढ़ से जान जा चुकी है। विधायक धौहनी श्री कुंवर सिंह टेकाम की पहल पर ग्रामीण यांत्रिकी सेवा विभाग द्वारा निधार्रित समयसीमा का पालन करते हुए बकियाधार नाला जूरी में लगभग 57 लाख रुपए लागत के स्लैब कल्वटर् का निमार्ण किया गया है।

स्लैब कल्वटर् के निमार्ण से ग्रामवासियों में प्रसन्नता है। इसके निमार्ण से गांव में रौनक आ गई है। ग्रामपंचायत का एक बड़ा हिस्सा जो आवागमन के मुख्य मागर् से वंचित थाए आज वह विकास की मुख्य धारा से जुड़ गया है। पहले प्रत्येक वषर् बड़ी संख्या में जानमाल का नुकसान होता था। अब लोग आसानी से अपनी आजीविका चला रहे हैं। ग्रामवासी बताते हैं कि पहले बच्चों को स्कूल जाने में दिक्कत होती थीए अभिभावकों को भी बच्चों की सुरक्षा की चिंता बनी रहती थी। आज बच्चे बिना किसी चिंता के स्कूल आते जाते हैं। इसी प्रकार पहले गांव का कोई आदमी बीमार हो जाता था तो उसे स्वास्थ्य सेवा बड़ी मुश्किल से मिल पाती थी। अब वाहन गांव तक आसानी से पहुंच जाते हैं और लोगों को अस्पताल ले जाने में कोई भी असुविधा नहीं होती है।

जूरी ग्राम पहुँचने के लिए बकियाधर नदी में पुल ;डीएमएफ व नरेगा सेद्ध और सुदूर रोड ;नरेगा सेद्ध के निमार्ण से अब जूरी ग्राम पूणर्तः मुख्य मागर् से जुड़ गया है तथा गाड़ियों का आवागमन सुचारु है। अब न तो नदी पार करते हुए वषार् काल में कोई बहता है और न किसी को अपनी गाड़ी 2 किमी पहले खड़ी करके पैदल जाना पड़ता है। आज यह पुल ग्रामवासियों को विकास की मुख्यधारा से जोड़ने का कायर् कर रही है। प्रदेश शासन के प्रयास से स्कूल के बच्चे एवं सभी आदिवासी समूह के लिए वरदान साबित हो रहा है।

[URIS id=12776]

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button

Adblock Detected

Allow me