FEATUREDभारतमध्यप्रदेश

Singrauli: एनसीएल की सभी परियोजनाओं में ‘त्रिपक्षीय सुरक्षा समिति’ की बैठक सम्पन्न

पोल खोल पोस्ट

सिंगरौली। नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड(एनसीएल) की सभी खदानों में ‘त्रिपक्षीय सुरक्षा समिति’ की बैठकें सम्पन्न हो गयी हैं । त्रिपक्षीय समिति में एनसीएल प्रबंधन, डीजीएमएस के अधिकारी और श्रमिक व अधिकारी संघ के प्रतिनिधि शामिल हैं । इस दौरान सभी परियोजनाओं में खदान क्षेत्र, सीएचपी, वर्कशॉप, सब स्टेशन, वीटीसी सहित प्रमुख स्थानों का निरीक्षण किया गया । समिति के सदस्यों ने कोयला खदानों में सुरक्षा बढ़ाने से संबंधित महत्वपूर्ण उपायों व प्रक्रियाओं तथा लोगों को सुरक्षा के प्रति सजग व संवेदनशील बनाने के उपायों पर चर्चा की । एनसीएल में यह बैठकें दो चरणों में सम्पन्न हुईं । पहले चरण में 17 से 21 अक्तूबर 2022 के बीच अमलोरी, निगाही, जयंत, दूधीचुआ व खड़िया तथा दूसरे चरण में दिनांक 8 से 11 नवंबर तक कृष्णशिला, ककरी, ब्लॉक बी, बीना व झिंगुरदा में बैठकें सम्पन्न हुईं । एनसीएल के विविध कोयला क्षेत्रों में आयोजित बैठकों के दौरान वाराणसी से डीएमएस(खनन), श्री एसएस प्रसाद एवं डीडीएमएस श्री के जीवन कुमार श्री आर कृष्ण कुमार तथा गाजियाबाद से डीएमएस(यांत्रिक) श्री संदीप श्रीवास्तव, डीएमएस(इलेक्ट्रिकल) श्री प्रकाश वर्मा एवं डीडीएमएस(इलेक्ट्रिकल) श्री रूपेश सिंह मेहता, डीएमएस(यांत्रिक) श्री उमेश कुमार साहू, एनसीएल के महाप्रबंधक(सुरक्षा) श्री पीडी राठी, संबन्धित परियोजना के महाप्रबंधक, परियोजना अधिकारी, विभागाध्यक्ष, सुरक्षा विभाग के अधिकारी, कंपनी जेसीसी के सदस्य, कंपनी सुरक्षा बोर्ड के सदस्य इत्यादि उपस्थित रहे ।

कार्य स्थलों के निरीक्षण के उपरांत समिति ने सुरक्षित खदान संचालन, मशीनों के बेहतर रखरखाव व सुरक्षा, सीएचपी के रखरखाव, कर्मियों की सुरक्षा, सुरक्षा उपकरणों की आपूर्ति व उपयोग, आधुनिक तकनीक के उपयोग, नवाचार व स्वचालन को बढ़ावा, वीटीसी में कर्मियों के प्रशिक्षण, संविदा कर्मियों की सुरक्षा व प्रशिक्षण जैसे अनेक विषयों पर गहन चर्चा की गयी और चिन्हित क्षेत्रों में सुधार के लिए रूपरेखा तैयार की गयी । समिति ने देश की अन्य चुनिन्दा खदानों की सर्वोत्तम प्रथाओं पर भी चर्चा की और उन्हें एनसीएल में लागू करने पर भी विमर्श किया ।

गौरतलब है कि एनसीएल में वर्ष 2022 में ही उप-महानिदेशक, खदान सुरक्षा, गाजियाबाद के निर्देशन में खदानों की सर्वोत्तम सुरक्षा पद्धतियों पर सेमिनार का आयोजन भी किया गया था । इस दौरान खुली खदानों में सुरक्षित कार्यप्रणाली , खान सुरक्षा से सम्बंधित विधिक नियमों व इनमें हाल ही में हुए बदलावों , खदानों में विद्युत सम्बंधी कार्यों में सुरक्षा, भारी मशीनों (एचईएमएम) में सुरक्षा सम्बंधी जानकारी, सुरक्षित ब्लास्टिंग, यातायात प्रबंधन, आग की रोकथाम और नियंत्रण तथा सीएचपी में सुरक्षित प्रथाओं जैसे अनेक विषयों पर गहन मंथन किया गया था |

[URIS id=12776]

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button

Adblock Detected

Allow me