उत्तर प्रदेशभारतमध्यप्रदेशसोनभद्र

Sonebhadra: जिला सँयुक्त चिकित्सालय लोढ़ी अस्पताल में समय से पहले दोपहर में डॉक्टरों का कुर्सी खाली पाया गया

 

 

रियल्टी चेक में समय 1:20 बजे शनिवार को, डॉक्टर चेम्बर से निकल गए दूर दराज से आये मरीज हुए रहे परेशान

इसकी जानकारी जब सीएमएस से लिया गया तो उन्होंने असंतोष जनक जबाब दिया उनसे पूछा गया कि 1,2,3,4,8 कमरा से कहा गए डॉक्टर

पोल खोल सोनभद्र

  (दिनेश पाण्डेय)

जिला अस्पताल लोढ़ी में ये साबित हो गया कि दलाल और डाक्टरो के साथ गांठ से बाहर की दवा और मेडिकल में कमीशन लेने का काम किया जाता है हर डॉक्टर अपने चेम्बर में एक प्राइवेट आदमी जरूर रखता है कि मरीज को किस प्रकार मोटी बेट करे ताजा मामला शनिवार का है जो रिपल्टी चेक करने पहुचे तो चेम्बर में डाक्टर की कुर्सी खाली मिला,वही अलग कमरे मे प्राइवेट आदमी मोटी बेट करते आम लोगो को अपने को बताया कि हम यही स्टाप है जो कि काम करते हैं

पूछने पर भागने लगा युवक आखिर ये साबित हो गया कि सीएमएस के पत्र का साफ हो गया कि जिला अस्पताल में मरीजो को बरगलाकर मरीजो को निजी हॉस्पिटल में लेजाया जाता है। जो चौकी इंचाज लोढ़ी को पत्र मिला है। जबकि ओपीडी में मरीज पहले आकर डॉक्टरों का इंतजार करते हैं। भीड़ होने पर धक्का-मुक्की के बीच मरीजों को इलाज कराना पड़ता है। शनिवार को अस्पताल में मरीज इंतजार कर रहे थे लेकिन भगवान रूपी डॉक्टर कक्ष में मौजूद नहीं मिले जिससे कि मायूस होकर वापस जाना पड़ा। बेहतर इलाज की उम्मीद में मरीज जिले के कोने-कोने से जिला अस्पताल आते हैं।

यहां आते ही उनकी उम्मीदों पर पानी फिर जाता है। वही हॉस्पिटल का टाइम 8 से लेकर 2 बजे तक है कमरा संख्या 1,2,3,4,में डाक्टर नही मिले और 8 नम्बर कमरे में ताला लटकता मिला एक मरीज युवक मुकेश पाल निवासी कोरट का रहने वाला आया डाक्टर को दिखाने तो मायूस होकर वापस जाना पड़ा जबकि दो अन्य कछ में चिकित्सक मौजूद थे।आखिर कब सुधार होगा जिला अस्पताल में क्यो डाक्टर अपने चेम्बर से गायब रहते हैं दूर दराज से आये मरीजो को झेलना पड़ता है

बड़ी मसक्कत पर्ची काउंटर के पास लगे दीवाल घड़ी में टाइम गलत बता रहा है वही डाक्टर चेम्बर के पास लगी दीवाल घड़ी में वहां भी टाइम गलत बता रहा है आखिर कार किसकी जिमेदारी बनती है हॉस्पिटल दुरुषत कराने का सब वहां मलाई काट रहा है।बहुत से ऐसे डॉक्टर है जो अपने प्राइवेट हास्पिटल पर बुलाते हैं और अपना यही प्रेक्टिस करते हैं आखिर सरकार द्वारा भी सैलरी लिया जा रहा है और बाहर आम लोगो से।

 

[URIS id=12776]

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button

Adblock Detected

Allow me