मध्यप्रदेश

प्रदेश सरकार कुपोषण के प्रति गंभीर नही : राजू – सीधी जिले के स्वास्थ्य केंद्रों एवं चिकित्सालय में चिकित्सक के 83 पद रिक्त।

प्रदेश सरकार कुपोषण के प्रति गंभीर नही : राजू – सीधी जिले के स्वास्थ्य केंद्रों एवं चिकित्सालय में चिकित्सक के 83 पद रिक्त
सीधी।
सपा उपाध्यक्ष जय सिंह राजू ने बताया कि हाल ही में संपन्न विधानसभा सत्र में प्रदेश की भाजपा सरकार से कुपोषित बच्चों को कुपोषण से बाहर निकालने में शासकीय अमले की विफलता के संबंध में जानकारी लेने पर महिला एवं बाल विकास विभाग के द्वारा बताया गया कि प्रदेश में कुल दो लाख एक हजार 873 बच्चे अति गंभीर कुपोषित बच्चे चिन्हित हुए। इसमें सीधी जिले में 5 हजार 397 बच्चे शामिल है।

महिला एवं बाल विकास विभाग के द्वारा बताया गया कि इनमें से करीब 90 प्रतिशत बच्चों के पोषण स्तर में सुधार हुआ है। श्री सिंह ने बताया की वास्तविकता इन आंकड़ों से भिन्न है, धरातल स्तर पर अनेक बच्चे कुपोषण की गिरफ्त में अभी भी देखें जा रहे है। विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में आदिवासी एवं कमजोर वर्ग के बच्चे जिन्हें स्वास्थ्य संबंधी जानकारी का पूर्ण ज्ञान नहीं होने से असमय काल के गाल में समा रहे हैं। सपा उपाध्यक्ष श्री राजू ने कहा कि महिला एवं बाल विकास विभाग को करोड़ों रुपए का बजट राशि प्रतिवर्ष प्रदान की जाती है। उसके बाद भी आज स्थिति जस की तस बनी हुई है पिछले 3 माह से प्रदेश की अनेकों आंगनबाडिय़ों में पोषण आहार का वितरण नहीं हुआ। उन्होने कहा कि प्रदेश की भाजपा सरकार जन स्वास्थ्य के प्रति पूरी तरह हर असंवेदनशील एवं लापरवाह है। पिछले कई वर्षों से उप स्वास्थ्य केंद्रों, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों एवं जिला चिकित्सालय में अनेक पद चिकित्सकों एवं गैर चिकित्सकीय पद रिक्त होने से स्वास्थ्य केंद्रों एवं अस्पतालों का संचालन ठीक से नहीं हो पा रहा है। इससे गरीब जनता के स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है। वहीं आयुष्मान कार्ड का ढिंढोरा पीट कर आयुष्मान कार्ड धारियों का उपचार निजी अस्पतालों में नहीं करने एवं उसमें भी भ्रष्टाचार की बड़ी-बड़ी शिकायतें प्राप्त हो रही है। श्री राजू ने बताया कि सरकार ने एक प्रश्न के उत्तर में लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री ने बताया कि सीधी जिले में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र एवं जिला चिकित्सालय में कुल चिकित्सकों के कुल 83 पद रिक्त हैं, शासन से शीघ्र रिक्त चिकित्सकों की पद पूर्ति की मांग की जाती रही है। इसके बाद भी सरकार जनहित के इस मुद्दे पर गंभीर नहीं है। इससे गरीब जनता के स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है शासन प्रतिवर्ष इन स्वास्थ्य केंद्र एवं

[URIS id=12776]

Related Articles

Back to top button