मध्यप्रदेश

स्वच्छ भारत अभियान की खोल रही पोल,लाखों की लागत से बने सार्वजनिक शौचालयों में लटक रहे ताले,खुले में जा रहे लोग…

स्वच्छ भारत अभियान की खोल रही पोल,लाखों की लागत से बने सार्वजनिक शौचालयों में लटक रहे ताले,खुले में जा रहे लोग..

सीधी सिंहावल। जिले के सिहावल जनपद क्षेत्र अंतर्गत जनपद मुख्यालय से लेकर अन्य ग्राम पंचायतों में बनें सार्वजनिक शौचालयों में आज भी लटक रहे ताले।

ग्राम पंचायत सिहावल एवं जनपद मुख्यालय के ग्राम पंचायत बमुरी के रामपुर ग्राम पंचायत अमिलिया ग्राम पंचायत हिनौती सहित सहित कई ग्राम पंचायतों में लाखों की लागत से बने सार्वजनिक शौचालयों में आज भी ताले लटक रहे हैं। लोग मजबूर होकर खुले में जा रहे हैं।

सिहावल जनपद क्षेत्र अंतर्गत दम तोड़ रहा है स्वच्छ भारत मिशन, लोगों पर भारी पड़ रही अधिकारियों एवं जन प्रतिनिधियों की अनदेखी

सरकार की मंशा के अनुसार क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों के द्वारा सार्वजनिक शौचालयों की सौगात तो दी गई। लेकिन बड़े दुर्भाग्य की बात है कि लाखों रुपए की लागत से सार्वजनिक शौचालय का निर्माण कार्य तो हो गया। परंतु पानी के अभाव के कारण लोग खुले में जाने पर मजबूर हैं। साथ ही बंद स्वच्छता परिषद की बिल्डिंगों में तालों की वजह से देखरेख ना होने पर वह धीरे-धीरे खंडहर में तब्दील होने लगीं हैं। लेकिन अधिकारी कर्मचारियों की उदासीनता की वजह से यह समस्या क्षेत्रवासियों को भारी पड़ रही है। और खुले में जाने पर मजबूर हैं।

यहां तक की स्थित मुख्यालय में दूर-दूर से लोग आते हैं साथ ही मुख्यालय में अपने कार्य को लेकर महिलाएं भी आती है। पर बड़े दुर्भाग्य की बात है कि मुख्यालय में भी स्थित सार्वजनिक शौचालय पर भी ताला जड़ा हुआ है। जिसकी वजह से बाहर से आने वाले लोगों के साथ साथ महिलाओं को भी इस समस्या से गुजारना पड़ता है।

और इधर-उधर देखते हुए किसी पेड़ एवं दीवाल का सहारा लेते हुए अपनी समस्या से गुजरती है।
इससे बड़ा क्या होगा दुर्भाग्य सिहावल मुख्यालय का सुविधा तो बनाई गई लेकिन वह सुविधा अधिकारी कर्मचारियों के दायरे में तालों तक सीमित रह गई। और खुले में जाना लोगों के लिए मजबूरी बन गई।

सिहावल मुख्यालय क्षेत्र अन्तर्गत सार्वजनिक शौचालय तो बनवा दिया गया लेकिन पानी की व्यवस्था ना होने पर शासन के लाखों करोड़ों रुपयों पर पानी फिरता नजर आ रहा है।

[URIS id=12776]

Related Articles

Back to top button