मध्यप्रदेश

कला भावों की अभिव्यक्ति है जिससे नई ऊर्जा का संचार होता : अरुण।

कला भावों की अभिव्यक्ति है जिससे नई ऊर्जा का संचार होता : अरुण।
गणेश स्कूल में ग्रीटिंग कार्ड प्रतियोगिता में बच्चों ने दिखाई प्रतिभा, लगी प्रदर्शनी
आकर्षण का केंद्र रही ग्रीटिंग कार्ड प्रदर्शनी
सीधी
एक दौर था जब नए साल, बर्थडे या अन्य त्योहारों पर एक दूसरे को ग्रीटिंग कार्ड देने की परंपरा थी लेकिन अब सोशल मीडिया के हावी हो जाने से ग्रीटिंग कार्ड की अहमियत कम अथवा लुप्त होती जा रही है। ऐसे में शुक्रवार को श्री गणेश सीनियर सेकेंडरी स्कूल, पड़रा के विद्यार्थियों द्वारा नए साल 2023 के उपलक्ष्य में आर्ट टीचर राजकपूर चितेरा के कुशल निर्देशन में हस्त निर्मित ग्रीटिंग कार्ड्स प्रतियोगिता एवं एक दिवसीय प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। प्रदर्शनी में विद्यार्थियों द्वारा बनाए गए एक से बढ़कर एक कार्ड सजाए गए थे।
स्कूल के आर्ट टीचर राजकपूर चितेरा ने बताया कि उक्त प्रतियोगिता में कक्षा चौथी से आठवीं तक के छात्र-छात्राओं ने हिस्सा लिया। बताया कि छात्रों ने ग्रीटिंग कार्ड को कार्टिज पेपर, शंख, मोती, सादे व कलर पेपर, रिबन, खुद की चित्रकारी के जरिए काफी आकर्षक बनाया गया था। ग्रीटिंग कार्ड्स प्रतियोगिता में सर्वश्रेष्ठ 20 कार्ड्स में जेनिथ केसरी, मान्या पुस्वानी, इशिका गुप्ता, कनक गौतम, अश्लेशा गुप्ता, समीरा सागर, अंशिका गुप्ता, अंशिका द्विवेदी, राधिका मिश्रा, देवंशी पटेल, अंशिका शुक्ला, समृद्धि उरमलिया, आरजू तिवारी, रूचि सिंह चौहान, इशिका केसरी, प्राची पटेल, ख़ुशी गुप्ता, आराध्या गुप्ता, नवसिंह परिहार और अभेद सिंह का चयन किया गया।
इससे पहले हस्तनिर्मित ग्रीटिंग कार्ड की प्रदर्शनी का शुभारंभ स्कूल के प्राचार्य डॉ. महेंद्र तिवारी ने किया। उन्होंने छात्रों के उत्साह और प्रतिभा की सराहना करते हुए कहा कि कार्डों में कला के वास्तविक रूप के दर्शन हो रहे हैं। डॉ. तिवारी ने कहा कि जरूरी नहीं है कि आप बाजार से महंगा सामान खरीदकर गिफ्ट करें बल्कि आप घर पर ही डिफरैंट क्रिएटिविटी दिखाकर न्यू ईयर या अन्य फेस्टिवल्स में ग्रीटिंग कार्ड तैयार कर सकते हैं। प्रदर्शनी में पहुंचे संस्था के मैनेजिंग डायरेक्टर अरुण ओझा ने कहा कि बच्चों द्वारा तैयार ग्रीटिंग कार्ड प्रदर्शनी काफी सराहनीय है। इससे बच्चों का माइंड क्रिएटिव होता है और वे नए-नए प्रयोगों के लिए प्रेरित होते है। श्रीओझा ने कहा कि कला भावों की अभिव्यक्ति है जिससे जीवन में नई ऊर्जा का संचार होता है। इस मौके पर स्कूल के समस्त शिक्षकगण व कर्मचारी उपस्थित रहे।

[URIS id=12776]

Related Articles

Back to top button