मध्यप्रदेश

उचित मूल्य दुकानो मे प्लास्टिक के चावल मिलने जैसी फैल रही भ्रांतियां,लोग चावल लेने से कर रहे इनकार,क्या है इसके पीछे का पूरा मामला।

उचित मूल्य दुकानो मे प्लास्टिक के चावल मिलने जैसी फैल रही भ्रांतियां,लोग चावल लेने से कर रहे इनकार,क्या है इसके पीछे का पूरा मामला।

अमित श्रीवास्तव कुसमी।

सीधी जिले के कुसमी आदिवासी जनपद पंचायत अंतर्गत आने वाले शासकीय उचित मूल्य दुकानों में इन दिनों चावल में कुछ अलग तरह के चावल मिक्स होने एवं दुकानों से वितरण होने से हितग्राहियो मे अलग अलग तरह की भ्रांतियां फैली हुयी है।और यह भ्रान्तिया इन दिनों क्षेत्र में आग की तरह फैली रही है जिससे हितग्राहियों में चावल को लेकर असंतुष्ट फैला हुआ है और वह शासकीय उचित मूल्य दुकानों से मिलने वाला प्लास्टिक जैसे चावल को लोग दुकानों से लेने से मना कर रहे हैं साथ ही जो हितग्राही ले रहे हैं वह उस मिक्स चावल को अलग कर फेंक देते है यहां तक कि विद्यालयों मे मध्यान भोजन में भी ऐसे चावल को अलग करके मध्यान भोजन पकाये जाने की जानकारी लोगो से मिल रही है।यहां तक की कुसमी क्षेत्र से ऐसी शिकायत उपखंड अधिकारी एवं तहसीलदार तक भी पहुची है।

मामले पर उपखंड अधिकारी आर के सिन्हा एवं तहसीलदार रोहित सिंह परिहार के द्वारा खाद्य विभाग के अधिकारियों से चालव के संबंध मे बात की गई तब जानकारी मिली है कि जो चावल के साथ मिक्स चावल आ रहे हैं फ़ोर्टीफाइट चावल है पोषक तत्व है जिसे खाने से कोई नुकसान नहीं है पूरे मामले पर लोगो को समझाइस देते हुये उपखंड अधिकारी एसडीएम एवं तहसीलदार ने आने बाले दिन सोमवार को किसी एक विद्यालय में पहुंचकर मिले हुए चावल के साथ उस चावल का मध्यान भोजन करके लोगों में जागरूकता संदेश देने की बात मीडिया से कहीं गई है। इसके बाद भी आदिवासी क्षेत्र में ऐसी भ्रान्तियां दूर करने के लिए खाद्य विभाग एवं फूड विभाग या फिर जिला अधिकारियो का भी बयान समाचार पत्रों मे आना जरूरी समझा जा रहा है।जो इस पोषक तत्व के बारे में विस्तृत जानकारी देने दे और लोगो की भ्रांतियां दूर हो सके।

[URIS id=12776]

Related Articles

Back to top button