मध्यप्रदेश

राज्यसभा सांसद की उपस्थित में संपन्न हुआ दिव्यांग परीक्षण शिविर।

राज्यसभा सांसद की उपस्थित में संपन्न हुआ दिव्यांग परीक्षण शिविर।

संजय सिंह मझौली सीधी
पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत जनपद क्षेत्र मझौली के सामुदायिक स्वास्थ्य मझौली में 21 जनवरी शनिवार को लोक सुराज दिव्यांग परीक्षण शिविर राज्यसभा सांसद अजय प्रताप सिंह के विशेष उपस्थिति में संपन्न हुआ।

मंच में शिविर के उद्देश्य पर गढे गए कसीद
एक तरफ मंच से वक्ताओं द्वारा लोक सुराज स्वास्थ्य परीक्षण शिविर के उपयोगिता एवं उद्देश्य पर कसीदे गढ़े जा रहे थे और राज सभा सांसद की सराहना की जा रही थी जिनके पहल से ऐसे शिविर का आयोजन किया गया है। वहीं कहा यह भी जा रहा था कि चिकित्सक टीम अपने संवेदनशीलता का परिचय देते हुए वास्तिविक दिव्यांग लोगों का प्रमाण पत्र जरूर बनाएं लेकिन वहां किस तरह प्रमाण पत्र बनाए जा रहे थे जिसका मौके पर ही प्रमाण देखा गया जब परीक्षण टीम से जवाब मिलने पर निराश कई दिव्यांग मंच के सामने ही आकर रोने लगे और गुहार लगाने लगे।
बताते चलें कि गत वर्ष सांसद श्री सिंह द्वारा लोक सुराज यात्रा निकाली गई थी जिसमें भारी तादाद में इस बात की जानकारी मिली की ग्रामीण क्षेत्र के लोग दिव्यांग हैं लेकिन प्रमाणपत्र न बनने के कारण उन्हें योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है जिसे गंभीरता से लेते हुए उनके द्वारा शासन को शिविर आयोजित करने संबंधी पत्र जारी किया गया उसी के तहत सामुदायिक स्वास्थ स्वास्थ मझौली में शिविर आयोजित हुआ जहां चिकित्सक टीम के द्वारा दिव्यांगों का परीक्षण कर उन्हें प्रमाण पत्र दिए गए।

खानापूर्ति बन कर रह गया शिविर
कई दिव्यांगों द्वारा बताया गया कि शिविर का समय 11:00 से शाम 5:00 बजे तक था लेकिन डॉक्टर टीम 2 घंटे देर से पहुंची बीच में 1 घंटे का लंच कार्यक्रम हो गया जहां परीक्षण कक्ष में कतारों में दिव्यांग खड़े रहे लेकिन परीक्षण करता की कुर्सी खाली रही। जो लोग लंबे समय से गठिया बाद एवं लकवा से पीड़ित एवं दिव्यांग रहे उन्हें यह कहकर प्रमाणित नहीं किया गया कि उपचार की पर्ची नहीं है जबकि सबसे ज्यादा इन्हीं दो मर्ज के मरीज थे जो काफी परेशान और निराश दिखे।

मंच में दिव्यांगों ने लगाई सांसद से गुहार
कई दिव्यांगों का स्वास्थ्य परीक्षण टीम द्वारा प्रमाण पत्र नहीं बनाए जाने की स्थिति में ऐसे लोग राज्यसभा सांसद के मंच के सामने पहुंच गए और गुहार लगाने लगे जिन्हें आश्वासन तो दिया गया कि उनका प्रमाण पत्र बनेगा लेकिन समय समाप्त हो गया और ऐसे दिव्यांगों को निराशा ही हाथ लगी। अब देखना है कि सांसद श्री सिंह ऐसे दिव्यांग लोगों के लिए क्या पहल करते हैं और क्या उनका प्रमाण पत्र बन पाएगा या इसी परेशानी के साथ अपना जीवन व्यतीत करेंगे।

मैं 10 वर्षों से गठिया रोग से पीड़ित हूं हाथ पैर पूरे टेढ़े मेढ़े हो गए हैं चलते नहीं बनता है किसी तरह शिविर में आई लेकिन डॉक्टरों ने प्रमाण पत्र नहीं बनाया नेताजी के पास मंच में भी गुहार लगाई लेकिन कोई समाधान नहीं मिला बहुत दुखी और निराश हूं।

बतसिया पति छोटिया कोल
ग्राम बंजारी

[URIS id=12776]

Related Articles

Back to top button